250 out of 748 indians stranded in pakistan return to india rest will return by 27th june – पाकिस्तान में लॉकडाउन में फंसे भारतीयों का पहला जत्था देश लौटा, 27 जून तक वापस आएंगे 748 नागरिक

137 Views
Jun 25, 2020
पाकिस्तान में लॉकडाउन में फंसे भारतीयों का पहला जत्था देश लौटा, 27 जून तक वापस आएंगे 748 नागरिक

पाकिस्तान में लॉकडाउन में 748 भारतीय फंसे हुए थे. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  • पाकिस्तान में फंसे हुए थे 748 भारतीय
  • 250 भारतीय आज वापस लौटे
  • 27 जून तक बाकियों को लाया जाएगा

नई दिल्ली:

कोरोना महामारी के चलते लगे लॉकडाउन की वजह से पाकिस्तान के अलग-अलग शहरों में फंसे 748 भारतीय में से 250 भारतीयों का पहला जत्था आज देश लौट आया. ये वापसी वाघा बॉर्डर के ज़रिए हुई हुई. कल यानी 26 जून को 250 भारतीयों का दूसरा जत्था देश लौटेगा और 27 जून को बाकी बचे 248 भारतीय भी देश लौट आएंगे.

यह भी पढ़ें

लौटने वाले भारतीयों में छात्र, तीर्थयात्री, बिज़नेस और रिश्तेदारों से मिलने के सिलसिले में पाकिस्तान गए हुए भारतीय शामिल हैं. ये सभी मार्च में लगी लॉकडाउन के बाद से ही पाकिस्तान में फंसे थे. भारत और पाकिस्तान दोनों ने अपनी सीमाएं बंद कर ली थीं. पाकिस्तान के अनुरोध पर भारत ने भारत में फंसे 512 पाकिस्तानी नागरिकों को अलग-अलग जत्थे में पहले ही पाकिस्तान भेज दिया है.

पाकिस्तान से लौट रहे भारतीयों को उनके गृह राज्यों की सरकार अपने-अपने राज्य ले जाकर क्वारंटीन करेंगी, जो बचे रह जाएंगे उनको पंजाब सरकार की तरफ से अमृतसर में ही क्वारंटीन किया जाएगा.

लौटने वालों में बड़ी तादाद में कश्मीर के छात्र भी हैं. कश्मीर से उनको लेने के लिए बसें सुबह ही वाघा बॉर्डर पहुंच चुकी थीं. इसी तरह उत्तराखंड से भी बसें पहुंचीं. आज इन दो राज्यों के निवासी लौटे हैं. शुक्रवार को जम्मू और कश्मीर और उत्तराखंड के अलावा गुजरात और महाराष्ट्र के लोग भी लौटेंगे. 27 जून को 16 अलग-अलग राज्यों के 248 लोग वापस आएंगे.

अगर पाकिस्‍तान में कोरोनावायरस के मामलो की बात करें तो यहां कोरोना के केसों की संख्‍या एक लाख 85 हजार के पार पहुंच चुकी है. 73 हजार, 471 लोग इलाज के बाद ठीक हुए हैं और यहां एक्टिव केसों की संख्‍या 1,07,868 है. पाकिस्‍तान में कोरोना की महामारी के कारण अब तक 3,695 लोगों ने जान गंवाई है.

VIDEO: पाक हाई कमीशन में 50% स्टाफ की होगी कटौती


Source by [author_name]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *