Coronavirus: Delhi Recovery Rate Reaches Record At 76.81 Percent, 2187 New Cases – Coronavirus: दिल्ली में रिकवरी रेट रिकॉर्ड 76.81 फीसदी पर पहुंचा, 2187 नए मामले

145 Views
Jul 9, 2020
Coronavirus: दिल्ली में रिकवरी रेट रिकॉर्ड 76.81 फीसदी पर पहुंचा, 2187 नए मामले

प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली:

Delhi Coronavirus: दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण में रिकॉर्ड 76.81 फीसदी रिकवरी रेट हो गया. दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2187 मामले सामने आए. कुल मामले 1,07,051 हो गए हैं. पिछले 24 घंटे में 45 मरीजों की मौत हुई. कुल मौतों का आंकड़ा 3258 हो गया है. पिछले 24 घंटों में 4027 लोग ठीक हुए हैं. अब तक कुल 82,226 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं.

यह भी पढ़ें

दिल्ली में कोरोना के एक्टिव केस अब 21,567 हैं. होम आइसोलेशन में 12,543 मरीज हैं. पिछले 24 घंटे में 22,289 टेस्ट हुए. अब तक कुल 7,24,148 टेस्ट हो चुके हैं. डेथ रेट 3.04 है.

केंद्र सरकार के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय (Health Ministry) ने कहा है कि भारत में प्रति 10 लाख की आबादी पर कोविड-19 के मामले और उससे होने वाली मौतें दुनिया में सबसे कम हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के आंकड़ों की ओर इशारा करते हुए सरकार ने कहा कि अगर प्रति मिलियन (10 लाख) संक्रमण की दर की गणना की जाए तो भारत में अभी भी कोरोना मामलों की संख्या (Coronavirus Cases in India) बेहद कम है. कोरोना के केसों के मामले में अमेरिका और ब्राजील के बाद तीसरे स्‍थान पर भारत का स्‍थान आता है.स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि देश में संक्रमण मुक्त हुए लोगों की संख्या इलाज करा रहे लोगों के मुकाबले 1.75 गुना ज्यादा है.

मंत्रालय के अनुसार, हमारे यहां 538 मामले/ मिलियन है जबकि दूसरे देशों में ये ये 16-17 गुना तक ज़्यादा है. भारत में प्रति मिलियन 15 मौत हुई हैं जबकि दूसरे देशों में 40 गुना तक ज़्यादा है. एक्टिव केस से रिकवर मरीज़ की संख्या 1.75 गुना है.आईसीएमआर के अनुसार, देश में औसतन प्रतिदिन 2.6 लाख से ज्यादा नमूनों की जांच की जा रही है. 

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के अनुससार, देश में कोविड-19 से हुई 53 प्रतिशत मौतें देश की जनसंख्या के 10 प्रतिशत (60 साल या उससे ज्यादा आयु के लोग) लोगों में से हुई हैं  स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने मीडिया ब्रीफिंग में बताया, “हम दुनिया में दूसरी सबसे अधिक आबादी वाले हैं. जब भी हम एक्टिव मामलों, कुल मामलों और मौतों की संख्या की बात करें तो हमें देश की आबादी का ध्यान में रखना चाहिए.” उन्‍होंने कहा कि 1.3 अरब की आबादी के बावजूद, भारत वायरस के अपेक्षाकृत अच्‍छी तरह से ‘नियंत्रित’ करने में सफल रहा है.

कोरोना वेक्‍सीन केा लेकर उन्‍होंने कहा कि आईसीएमआर के डीजी की ओर से लेटर का आशय था कि बिना safety से समझौता किए वैक्‍सीन ट्रायल में तेजी लाई जाए. हम जल्द से जल्द हम वैक्सीन लाना चाहते हैं. आज वैक्सीन की जरूरत है. अगर हम परंपरागत तौर पर जाएंगे तो  2 साल का वक़्त लगेगा. इसके पीछे बस काम में तेजी लाने के मकसद से मकसद था. कोरोना के हवा के संक्रमण के मुद्दे पर उन्‍हांने कहा कि हमने बहुत पहले से ही 2 गज की दूरी या 6 फीट की दूरी की बात कहीं है. जो आपको प्रोटेक्ट करता है छोटे droplet से जो हवा में लंबे समय तक हो सकते हैं और जिनके air borne की बात हो रही है, हमारी नजर इस पर है.मंत्रालय की ओर से साफ किया गया कि भारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं है.


Source by [author_name]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *