Delhi Police files charge sheet on Kardampuri and Maujpur violence – दिल्‍ली हिंसा केस: मौजपुर में बवाल और कर्दमपुरी में दो लोगों की हत्‍या मामले में चार्जशीट दाखिल

113 Views
Jun 9, 2020
दिल्‍ली हिंसा केस: मौजपुर में बवाल और कर्दमपुरी में दो लोगों की हत्‍या मामले में चार्जशीट दाखिल

एंटी सीएए प्रदर्शन के बाद दिल्‍ली में हिंसा भड़क उठी थी

नई दिल्ली:

Delhi Violence Case: दिल्‍ली में हिंसा के दौरान मौजपुर में हुई हिंसा और कर्दमपुरी इलाके में दो लोगों मोहम्‍मद फुरकान व दीपक की हत्‍या के मामले में दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) ने कोर्ट में अलग-अलग चार्जशीट दाखिल कर दी है. गौरतलब है कि  उत्तर-पूर्वी दिल्ली के मौजपुर में बीजेपी नेता कपिल मिश्रा (Kapil Mishra) अपने समर्थकों के साथ एंटी सीएए प्रदर्शन कर रहे लोगों के सामने थे और प्रदर्शनकारियों को सड़को पर आने और जाम खुलवाने की धमकी देकर चले गए. उसके बाद इलाके में हिंसा शुरू हो गई थी. इस मामले में दिल्ली पुलिस की SIT ने अदालत में चार्जशीट दायर कर दी है. फिलहाल यह साफ नहीं है कि इस चार्जशीट में क्या कपिल मिश्रा का भी नाम है कि नहीं. हिंसा के इस मामले में कुल 5 लोग अब तक गिरफ्तार हुए हैं,जिसमें सरेआम पिस्टल लहराने वाला शाहरुख पठान मुख्य आरोपी है.

यह भी पढ़ें

दिल्ली पुलिस के मुताबिक 24 फरवरी को करीब 11 बजे मौजपुर चौक पर एंटी सीएए और सीएए के पक्ष में ग्रुप आमने-सामने आ गए थे. शुरुआत में विरोध प्रदर्शन शांतिपूर्ण था लेकिन बाद में दोनों तरफ से पथराव और आगजनी शुरू हो गई थी जिसमें कई लोग और पुलिसकर्मी घायल हो गए थे. इस हिंसा में विनोद नाम के एक शख्स की मौत हो गई थी जिसकी हत्या का मामला अलग से दर्ज किया गया. जांच में पता चला कि ये हिंसा एक गहरी साजिश के तहत हुई. साज़िश एंटी सीएए प्रोटेस्ट और चक्काजाम के बहाने रची गई. मामले में मुख्य आरोपी शाहरुख (Shah Rukh)समेत 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया था. शाहरुख ने हेड कॉन्स्टेबल दीपक दाहिया पर पिस्टल तानते हुए फायरिंग की थी. पुलिस ने शाहरुख की पिस्टल और 2 कारतूस भी बरामद किए थे. पुलिस का कहना है कि इस मामले में बाकी आरोपियों की पहचान कर रही है लेकिन सवाल ये है कि कपिल  की मौजूदगी और भड़काऊ बयान देने के बाद भी अब तक ये साफ नहीं है कि इस चार्जशीट में कपिल मिश्रा का नाम है कि नहीं.

इसी तरह कर्दमपुरी इलाके में 2 लोगों मोहम्मद फुरकान और दीपक की हत्या के मामले में दिल्ली पुलिस SIT ने कोर्ट में अलग अलग चार्जशीट दायर की है. इन दोनों मामलों में कुल 8 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है. चार्जशीट के मुताबिक 24 फरवरी को उत्तर-पूर्वी दिल्ली के ज्योति नगर के कर्दमपुरी पुलिया के पास एक साजिश के तहत हिंसा फैल गई. लोग पथराव और आगजनी कर रहे थे. हिंसा के वक्त शाम करीब 4:30 बजे गत्ते की छोटी सी फैक्टरी चलाने वाला मोहम्मद फुरकान भी वहां मौजूद था. फुरकान को 2 गोलियां लगीं इसके अलावा 4 और लोग गोली लगने से घायल हो गए. हिंसा में 17 पुलिसवाले भी ज़ख्मी हुए थे. बाद में फुरकान की मौत हो गई थी. एसआईटी ने हत्या और हिंसा के इस मामले की जांच शुरू की. कर्दमपुरी पुलिया पर सीसीटीवी कैमरा लगा था लेकिन उसे हिंसा से पहले ही 23 और 24 फरवरी को तोड़ दिया गया लेकिन लोगों से मिले कुछ वीडियो फुटेज और तकनीकी जाँच के आधार पर इस मामले में 4 लोगों को गिरफ्तार किया गया. इसी तरह 25 फरवरी को कर्दमपुरी इलाके में दुबारा हिंसा शुरू हो गई. दंगाइयों ने 2 बड़ी पार्किंग को आग के हवाले कर दिया. इसी दौरान दंगाइयों ने 32 साल के दीपक पीट-पीट कर और चाकू से गोदकर मार डाला और उसके शव को सड़क पर ही फेंक दिया. दीपक ई-रिक्शा चलाता था. जहां दीपक की हत्या हुई थी, वहां सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे थे. पुलिस ने चश्मदीदों के बयान और तकनीकी जाँच के आधार पर इस मामले में भी 4 लोगों को गिरफ्तार किया. इनके खिलाफ भी चार्जशीट पेश कर दी गई है. 

मुकाबला: दिल्‍ली की आग को सोशल मीडिया ने कितना भड़काया


Source by [author_name]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *