Karnataka: IAS officer BM Vijay Shankar,accused in IMA scam, Found Dead At Home – कर्नाटक: IMA पोंजी घोटाला मामले में आरोपित IAS अधिकारी विजय शंकर अपने घर में मृत पाए गए

309 Views
Jun 24, 2020
कर्नाटक: IMA पोंजी घोटाला मामले में आरोपित IAS अधिकारी विजय शंकर अपने घर में मृत पाए गए

प्रतीकात्‍मक फोटो

बेंगलुरु:

आईएएस अधिकारी बीएम विजय शंकर मंगलवार रात बेंगलुरु में अपने निवास पर मृत पाए गए. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी. गौरतलब है कि केंद्रीय जांच ब्‍यूरो (सीबीआई) 4,000 करोड़ रुपये के IMA पोंजी घोटाले में शंकर के खिलाफ केस चलाना चाहती थी. पुलिस के मुताबिक, बेंगलुरु शहरी जिले के पूर्व उपायुक्त शंकर यहां जयानगर में अपने आवास पर मृत मिले हैं. उन्होंने इस बारे में विस्‍तार से जानकारी दिए बिना कहा, ”यह सच है कि वह अपने घर पर मृत मिले हैं.” विजय शंकर पर आईएमए पोंजी घोटाले पर पर्दा डालने के लिये कथित रूप से घूस लेने का आरोप है.

यह भी पढ़ें

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी नीत गठबंधन सरकार ने 2019 में एक विशेष जांच दल का गठन किया था जिसने शंकर को गिरफ्तार किया था.इसके बाद बीजेपी सरकार ने इस मामले को CBI के हवाले कर दिया था. सीबीआई के सूत्रों ने बताया कि हाल ही में एजेंसी ने इस मामले में शंकर और दो अन्य लोगों को के खिलाफ मुकदमा चलाने के लिये राज्य सरकार से अनुमति मांगी थी.

सीबीआई ने इस मामले में दो वरिष्ठ IPS अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा चलाने के लिए भी राज्य सरकार से इजाजत मांगी थी.गौरतलब है कि मोहम्मद मंसूर खान ने 2013 में बड़ी रकम वापस करने का वादा कर पोंजी स्कीम शुरू की थी.यह मामला उसी से जुड़ा है.

(आत्‍महत्‍या किसी समस्‍या का समाधान नहीं है. अगर आपको सहारे की जरूरत है या आप किसी ऐसे शख्‍स को जानते हैं जिसे मदद की दरकार है तो कृपया अपने नजदीकी मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञ के पास जाएं.)

हेल्‍पलाइन नंबर:

AASRA: 91-22-27546669 (24 घंटे उपलब्ध)

स्‍नेहा फाउंडेशन: 91-44-24640050 (24 घंटे उपलब्ध)

वंद्रेवाला फाउंडेशन फॉर मेंटल हेल्‍थ: 1860-2662-345 और 1800-2333-330 (24 घंटे उपलब्ध)

iCall: 022-25521111 (सोमवार से शनिवार तक उपलब्‍ध: सुबह 8:00 बजे से रात 10:00 बजे तक)

एनजीओ: 18002094353 दोपहर 12 बजे से रात 8 बजे तक उपलब्‍ध)

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Source by [author_name]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *