Kumar Vishvas expressed happiness after LG overrules Arvind Kejriwal Orders on Hospital – LG ने पलटा केजरीवाल सरकार का फैसला तो कुमार विश्वास ने की तारीफ, बोले- कश्मीर से कन्याकुमारी तक पूरा भारत एक लेकिन…

137 Views
Jun 9, 2020
LG ने पलटा केजरीवाल सरकार का फैसला तो कुमार विश्वास ने की तारीफ, बोले- कश्मीर से कन्याकुमारी तक पूरा भारत एक लेकिन...

कुमार विश्वास ने दिल्ली के अस्पतालों को लेकर दिए गए केजरीवाल सरकार के फैसले को पलटने पर जताई खुशी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

दिल्ली के अस्पतालों में अब सभी का इलाज हो सकेगा. दिल्ली के उप-राज्यपाल (LG) अनिल बैजल ने दिल्ली सरकार के उस फैसले को पलट दिया है कि जिसमें कहा गया था कि दिल्ली के सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में सिर्फ दिल्लीवालों का ही इलाज होगा. बैजल द्वारा दिल्ली सरकार के फैसले को पलटने को लेकर जुबानी जंग शुरू हो गई है. मशहूर कवि कुमार विश्वास ने बैजल के इस कदम की तारीफ करते हुए कहा कि भारतीय संविधान की मूल सोच को जिंदा रखने के लिए आपका आभार है. 

यह भी पढ़ें

कुमार विश्वास ने अपने ट्वीट में लिखा- “कश्मीर से कन्याकुमारी तक पूरा भारत एक है! लेकिन कुछ बौनी सोच के छोटे लोग हैं जो प्रदेशों में चालू उनकी अधिकारहीन सियासी दुकान के कारण सदा चाहते हैं कि उस राज्य में संघीय ढांचे के विपरीत पृथकतावादी सोच पैदा होती रहे. भारतीय संविधान की मूल सोच को ज़िंदा रखने हेतु आभार.”

उपराज्यपाल ने कहा कि दिल्ली में कोई भी इलाज करा सकता है और बिना लक्षण वाले लोगों की भी जांच की जानी चाहिए. इस कदम से आप सरकार और उपराज्यपाल कार्यालय के बीच टकराव बढ़ सकता है. इस आदेश के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट करके कहा, “LG साहिब के आदेश ने दिल्ली के लोगों के लिए बहुत बड़ी समस्या और चुनौती पैदा कर दी है. देशभर से आने वाले लोगों के लिए करोना महामारी के दौरान इलाज का इंतज़ाम करना बड़ी चुनौती है. शायद भगवान की मर्ज़ी है कि हम पूरे देश के लोगों की सेवा करें. हम सबके इलाज का इंतज़ाम करने की कोशिश करेंगे.” 

बता दें कि दिल्ली में बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच दिल्ली कैबिनेट ने रविवार को फैसला लिया था कि दिल्ली सरकार के सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में केवल दिल्ली के निवासियों का इलाज होगा, जबकि केंद्र सरकार के अस्पतालों में सभी का इलाज होगा. 

वीडियो: दिल्ली के एलजी ने केजरीवाल सरकार के फैसले को बदला



Source by [author_name]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *