Locust Attack Gurugram Administration Warns people said Make Noise and Shut Windows

111 Views
Jun 27, 2020
गुरुग्राम प्रशासन ने जारी की एडवाइजरी, टिड्डियों से बचने के लिए करें ये उपाय

टिड्डियों का झुंड कई एकड़ में फैली फसल को मिनटों में चट कर सकता है. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • गुरुग्राम के करीब दिखा टिड्डी दल
  • टिड्डी दल से बचाव को एडवाइजरी
  • घरों की खिड़कियां बंद रखें लोग

गुरुग्राम:

टिड्डी दल (Locust Attack) के हमले से कई राज्यों के किसान परेशान हैं. टिड्डियों ने लाखों-करोड़ों की फसलों को काफी नुकसान पहुंचाया है. टिड्डी दल अब गुरुग्राम (Gurugram) के करीब पहुंच चुका है. जिला प्रशासन ने शुक्रवार को शहरवासियों से इनसे बचाव को लेकर कहा कि लोग अपने-अपने घरों की खिड़कियों को बंद रखें. प्रशासन ने लोगों से कहा है कि वह टिड्डियों के आने पर बर्तन बजाकर शोर मचाएं.

यह भी पढ़ें

प्रशासन ने इस संबंध में कहा कि टिड्डियों का झुंड महेंद्रगढ़ जिले में पहुंच गया है और रेवाड़ी सीमा तक पहुंचने की उम्मीद है. इन परिस्थितियों में, गुरुग्राम प्रशासन ने एक एडवाइडरी जारी करते हुए कहा कि लोगों को अपनी खिड़कियों को बंद रखना चाहिए और टिन के डिब्बों, बर्तनों और ढोल बजाकर शोर करना चाहिए ताकि टिड्डियां एक स्थान पर न बैठ सकें.

प्रशासन ने आगे कहा कि किसान कीटनाशक से युक्त पंप तैयार रखें ताकि वह अपनी फसल को टिड्डियों से बचा सकें. प्रशासन की ओर से कृषि विभाग के कर्मचारियों से कहा गया कि वह गांवों में जाकर ग्रामीणों को टिड्डियों के हमले से बचाव के बारे में जागरूक करें.

बता दें कि इस साल टिड्डी दल ने राजस्थान, पंजाब, गुजरात, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश और हरियाणा में कई एकड़ों में फैली फसलों को नुकसान पहुंचाया. केंद्र सरकार ने इनसे बचाव के लिए 11 कंट्रोल रूम तैयार किए हैं. पिछले महीने हरियाणा के मुख्य सचिव केशनी आनंद ने कृषि विभाग और सभी जिला प्रशासन को सभी जरूरी सावधानियां बरतने के लिए कहा था.

टिड्डियों का यह झुंड अफ्रीका से होते हुए ईरान, पाकिस्तान और भारत में दाखिल होता है. टिड्डी दल जबरदस्त भूख के लिए जाने जाते हैं. यह झुंड कई एकड़ में फैली फसल को मिनटों में चट कर सकता है.

VIDEO: छत्तीसगढ़ : कोरिया के ज्वारीटोला गांव में पहुंचा टिड्डियों का दल


Source by [author_name]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *