The initial Disengagement has been Completed at Galwan, Gogra and Hot Springs area: Sources – गलवान घाटी, हॉट स्प्रिंग और गोगरा में पीछे हटीं दोनों सेनाएं, पैंगोंग में कम हुआ चीनी जमावड़ा : सूत्र

129 Views
Jul 9, 2020
गलवान घाटी, हॉट स्प्रिंग और गोगरा में पीछे हटीं दोनों सेनाएं, पैंगोंग में कम हुआ चीनी जमावड़ा : सूत्र

पूर्वी लद्दाख के तीन क्षेत्रों से चीन के सैनिक पीछे हटे हैं

नई दिल्ली:

India-China Standoff: भारत और चीन के बीच वास्‍तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के आसपास तनाव धीरे-धीरे कम हो रहा है. सूत्रों के मुताबिक गालवान घाटी, हॉट स्प्रिंग एरिया और गोगरा में चीनी सैनिक पीछे हटी है. इन तीनों क्षेत्रों में प्रारंभिक डिस्‍एंगेजमेंट का काम पूरा हो गया है. पैंगोंग त्सो में भी चीन अपनी सेना की संख्या में कमी कर रहा है. हालांकि सेना ने इस बात पर पैनी नजर बनाकर रखी है कि चीन कब तक और किस प्रकार पीछे हटता है?

यह भी पढ़ें

गौरतलब है कि पूवी लद्दाख में हिंसक संघर्ष के बाद 30 जून को भारत और चीन के लेफ्टिनेंट जनरल रैंक के अधिकारियों के बीच हुई बैठक में गलवान वैली, हॉट स्प्रिंग, पैंगोंग त्सो और गोगरा में तनाव कम करने के लिए फॉर्मूले पर समझौता हुआ था. इसके अंतर्गत दोनों ही पक्षों ने डेढ़ से दो किमी पीछे हटना शुरू किया है. सूत्रों के अनुसार, गलवान और हॉट स्प्रिंग से चीनी सेना के हटाने की पुष्टि सेटेलाइट इमेज से भी हुई है.पीछे हटने (Disengagement) की प्रक्रिया के हिस्से के तहत भारत सैन्य वार्ता पूरी होने तक पीपी 14 पर ‘पेट्रोलिंग’ को अस्थायी रूप से निलंबित करने के लिए सहमत हुआ है. हालांकि ड्रोन के जरिए इस इलाके की निगरानी जारी रहेगी.

15 जून को पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक संघर्ष के बाद तनाव चरम पर पहुंच गया था. गालवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प (Ladakh Clash) में 20 भारतीय जवानों को जान गंवानी पड़ी थी. खबरों के मुताबिक करीब 45 चीनी सैनिकों को इस संघर्ष में या तो मौत हुई थी या तो वे गंभीर रूप से घायल हुए थे. बाद में बातचीत के कई चरणों के दौर के बाद दोनों पक्ष सैनिकों को हटाने और तनाव कम करने के कदम उठाने को लेेकर सहमत हो गए थे.सोमवार को विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर बताया था कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल और चीनी विदेश मंत्री वांग यी के बीच फोन पर बातचीत हुई थी, जिसमें दोनों लोगों ने LAC पर शांति स्थापित करने और भारत-चीन सीमा विवाद को बातचीत के जरिेए सुलझाने को लेकर प्रतिबद्धता जताई थी.


Source by [author_name]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *